Connect with us

Politics

Appeasement resulted in radicalisation: Amit Shah

HYDERABAD: Home minister Amit Shah said on Sunday that the “appeasement politics” of governments led by opposition parties has created the menaces of communalism and radicalisation, in what was seen as the articulation of BJP’s charge against the Congress government in Rajasthan and the former Maha Vikas Aghadi coalition in Maharashtra. “Communalism and fundamentalism are…

Published

on

Appeasement resulted in radicalisation: Amit Shah

HYDERABAD: House minister Amit

Shah

acknowledged on Sunday that the “appeasement politics” of governments led by opposition parties has created the menaces of communalism and radicalisation, in what used to be considered because the articulation of BJP‘s imprint against the

Congress

authorities in Rajasthan and the historical Maha Vikas Aghadi coalition in Maharashtra.

“Communalism and fundamentalism are merchandise of appeasement. They should always advance to an cease,” Assam chief minister Himanta Biswa

Sarma

quoted Shah as pronouncing while transferring BJP’s political resolution at the national executive assembly.

When requested whether Shah particularly meant the beheading of Hindus in Udaipur and Amravati over the alleged insults to Prophet Mohammad, Sarma acknowledged that it used to be the politics of appeasement practised by Congress and others over a protracted time which collect resulted in such injurious killings.

Sarma additionally quoted Shah as figuring out the politics of appeasement and dynasty because the two impediments which collect held India from realising its ability to be a leading global vitality – Vishwa Guru, and acknowledged that it would possess 30-40 years of BJP’s political dominance at the Centre and in the states to restore the damage and maintain the country safe and stronger. He additionally criticised opposition parties for promoting regionalism.

The Union home minister, who used to be the centre of consideration for scripting the downfall of the MVA coalition in Maharashtra, additionally acknowledged that PM Modi had introduced a paradigm alternate in Indian politics by highlighting the bane of appeasement and household domination in politics. “Occasion’s fresh victory in assembly polls in four states used to be reflective of it,” Shah acknowledged.

Sarma acknowledged BJP’s resolution at the national executive has suggested that the celebration should always address the politics of trend and performance to entire the predominance of regionalism and the politics of household domination and appeasement.

He additionally acknowledged, the opposition had change into disjointed and dispirited with individuals of Congress combating for democracy inner their organisation as its ruling household clings to its attach. “A entire lot of Congress leaders collect questioned about why the celebration wasn’t deciding on its president, which exhibits that there is no democracy in the celebration,” Shah acknowledged.

Shah once more referred to the novel

Supreme Court

verdict disregarding a plea consuming the SIT’s trim chit to 64 folks, including then CM Narendra Modi in the 2002 Gujarat riots case. “Modi obtained insults but maintained silence while going via the SIT and saved his faith in the Constitution,” Shah acknowledged as he contrasted this with the Congress’s strive to spread “anarchy” after its chief Rahul Gandhi used to be summoned by the ED in the National Herald money laundering case. “Modi on no story did the create of drama that Gandhi household has done while going via a apt investigation,” Shah acknowledged.

Shah asserted that BJP would cease household rule in Telangana and Bengal and can advance to connect of job in Andhra, Tamil Nadu, Kerala and Odisha. “There used to be a ‘collective hope and finding’ at the assembly that BJP’s next round of enhance will advance from south India,” Sarma added.

The home minister acknowledged that the opposition is disjointed and has been opposing every part stunning that the BJP authorities does. “Congress has been littered with ‘Modi phobia’ and opposes every decision of the Modi authorities taken in the national curiosity,” he acknowledged.

Learn More

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Politics

Opposition sees Nitish Kumar transfer as imprint of taking fight to BJP

NEW DELHI: Opposition parties welcomed Nitish Kumar’s move to snap ties with BJP and ally with RJD, Congress and other parties in Bihar as a move that took the fight to BJP and a sign that the opposition would not be intimidated by the saffron party. One party said the realignment in Bihar had given…

Published

on

Opposition sees Nitish Kumar transfer as imprint of taking fight to BJP

NEW DELHI: Opposition parties welcomed Nitish Kumar‘s transfer to snap ties with BJP and ally with RJD, Congress and other parties in Bihar as a transfer that took the fight to BJP and a imprint that the opposition would now not be intimidated by the saffron celebration. One celebration said the realignment in Bihar had given BJP a model of its believe remedy.

“It is a appropriate initiating put right this moment, the day when the slogan of ‘Bharat chhoro (Quit India)’ used to be given in opposition to the British. If the slogan of ‘BJP bhagaao (power away BJP)’ is coming from Bihar, I believe that in other states furthermore, parties will stand in opposition to BJP, and so will the folk,” Samajwadi Social gathering president Akhilesh Yadav said.

Congress politician Jairam Ramesh said it used to be an instance of what goes up have to reach down and that the ruling celebration had been “illegally” toppling enlighten governments. “In March 2020, Modi Sarkar postponed the Covid-19 lockdown to engineer the fall of the Kamal Nath authorities in Madhya Pradesh. Now, it cuts rapid the Parliament session gleaming its coalition authorities in Bihar goes. What goes up have to reach down!” Ramesh said on Twitter. Rajasthan CM Ashok Gehlot described the JD(U) and BJP alliance as “inferior” and “sure to atomize”.

In March 2020, Modi Sarkar postponed COVID-19 lockdown to engineer the fall of the Kamal Nath govt in MP. Now, it c… https://t.co/LHXkPlHyt8

— Jairam Ramesh (@Jairam_Ramesh) 1660039634000

CPI classic secretary D Raja tweeted to teach that Nitish’s transfer used to be a “trusty indictment of the politics of intimidation practiced by BJP”.”BJP’s authoritarianism leaves no scope for cooperation. After Akalis & Shiv Sena, JD(U) is the most modern instance. Cracks are viewed within the connection of BJP & AIADMK too,” he said.

#NitishKumar breaking alliance with BJP is a trusty indictment of the politics of intimidation practiced by BJP. B… https://t.co/GI22D5ZBLV

— D Raja (@ComradeDRaja) 1660039448000

Outmoded PM and JDS supremo H D Deve Gowda tweeted: “I if truth be told have been watching the tendencies in Bihar. It made me think of the days when the Janata Dal parivar used to be below one roof. It gave three PMs. I’m in my developed years however if the younger generation decides, it goes to give a appropriate replacement to this mountainous nation,” he tweeted.

I if truth be told have been watching the tendencies in Bihar. It made me think of the days when the Janata Dal parivar used to be below… https://t.co/NYx9986Pck

— H D Devegowda (@H_D_Devegowda) 1660050943000

CPI MP Binoy Viswam said one may perchance perchance sense a swap. “Bihar conveys the message of some distance-reaching swap in Indian politics. It be closing end result will depend on the extent of insight expected from the crucial gamers,” Viswa tweeted, including that the Left would play a “responsible feature in its constant fight in opposition to RSS-BJP”.

Bihar conveys the message of fareaching swap in Indian politics.Its closing out reach depends upon up on the extent of ins… https://t.co/FjkckmFzkr

— Binoy Viswam (@BinoyViswam1) 1660035571000

CPI(M) classic secretary Sitaram

Yechury

said BJP had now got a “model of their very believe remedy”. “The BJP has said that it wanted an opposition-free India. Now peep at how some parties are reacting to them, in particular their allies. They are getting a model of their very believe remedy after what they did in Maharashtra,” Yechury suggested news company PTI.

Tamil Nadu’s governing DMK said celebration chief

MK Stalin

‘s dedication to strive in opposition to BJP in national politics had got a buy from Nitish’s transfer.

Read Extra

Continue Reading

Politics

Analysis : एग्जिट रूट की तलाश में नीतीश कुमार, ऑपरेशन RCP इसी का हिस्सा

Authored by Alok Kumar | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: Aug 7, 2022, 4:19 PMBihar Politics : बिहार की सियासत कब किस करवट बैठेगी, कहना मुश्किल है। अभी पटना की सियासी फिजा में भी घोर धुंध छाया हुआ है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को लगता है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जल्दी ही तेजस्वी यादव की…

Published

on

Analysis : एग्जिट रूट की तलाश में नीतीश कुमार, ऑपरेशन RCP इसी का हिस्सा

Authored by Alok Kumar | नवभारतटाइम्स.कॉम | Up to this point: Aug 7, 2022, 4: 19 PM

Bihar Politics : बिहार की सियासत कब किस करवट बैठेगी, कहना मुश्किल है। अभी पटना की सियासी फिजा में भी घोर धुंध छाया हुआ है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को लगता है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जल्दी ही तेजस्वी यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल के साथ जा सकते हैं। उधर तेजस्वी यादव इसके लिए कितने तैयार हैं कहना मुश्किल है पर रुख तो नरम है

nitish-tejashwi
क्या बिहार में सियासी भूचाल आने वाला है

हाइलाइट्स

  • बिहार भाजपा को लग रहा है कि नीतीश कुमार जल्दी ही कुछ बड़ा फैसला लेने वाले हैं
  • नीतीश कुमार ने पिछले तीन मौकों पर दिल्ली में हुई बैठकों में हिस्सा नहीं लिया है
  • जातीय जनगणना से लेकर भाजपा मंत्रियों के फैसले बदलने पर आरजेडी नीतीश का साथ दे रही है
  • भाजपा और जेडीयू को लग रहा है कि दोनों हर दिन एक-दूसरे को झेल रहे हैं
नई दिल्ली : आरसीपी सिंह को किनारे लगाने के बाद आज नीतीश कुमार उसी समय पटना में एक सार्वजनिक कार्यक्रम में शिरकत कर रहे थे जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुख्यमंत्रियों की बैठक चल रही है। बताया गया है नीतीश कोरोना से उबरे हैं इसलिए दिल्ली नहीं आना चाहते थे। तो अगला कार्यक्रम जान लीजिए। कल सोमवार को होने वाले जनता दरबार भी पटना में होगा। सीएम सचिवालय ने बताया है कि नीतीश कुमार इसमें मौजूद रहेंगे। तीन-चार घंटे तो ये चलता ही है। हो सकता है जेट लैग से बचने के लिए नीतीश कुमार दिल्ली का रुख नहीं कर रहे हों। पटना में तो खूब सक्रिय हैं। 25 मार्च को योगी आदित्यनाथ के शपथ ग्रहण में वो आए थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अभिवादन करते हुए थोड़ा झुक गए तो बेवजह बवाल मच गया। ‘तुस्सी ग्रेट हो, तोहफा कबूल करो’ जैसे मीम राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने बनाए। इसके बाद नीतीश कुमार ने ऐसा कोई मौका ही आने नहीं दिया। हालांकि मिले जरूर। पटना में ही। पीएम मोदी जब विधानसभा के कार्यक्रम में पहुंचे थे। लेकिन दिल्ली का रुख नहीं किया।



1 मई को मुख्यमंत्रियों और हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस की बैठक में वो नहीं आए। फिर न राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण में आए, न ही उनके सम्मान में पीएम मोदी के डिनर में। बस क्या था, भाजपा के साथ तनाव और बढ़ने की खबरें चलने लगीं। इसी बीच दाएं हाथ को उन्होंने धीरे-धीरे काट डाला। मतलब रामचंद्र प्रसाद सिंह से है। अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में जब नीतीश कुमार केंद्रीय मंत्री बने, तब से आरसीपी उनके साथ रहे। तब यूपी कैडर के आईएएस थे और बाद में जेडीयू में टॉप पर रहे। पहले तो नीतीश ने उन्हें तीसरी बार राज्यसभा नहीं पहुंचाया। इसके बाद केंद्रीय इस्पात मंत्री की कुर्सी चली गई। फिर पार्टी ने ही भ्रष्टाचार के आरोप लगा दिए। कल आरसीपी ने जेडीयू को डूबता जहाज बता पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया।

नीतीश कुमार को लगता था कि आरसीपी भाजपा के जासूस हैं। ज्यादा ही नजदीक जा रहे हैं। और हो सकता है कुछ विधायकों को भी नजदीक ले जाने की कोशिश कर रहे हों। इसी डर से नीतीश कुमार ने 25 साल पुराने अपने खासमखास को उठाकर फेंक दिया

भाजपा नेता


कुछ सवाल आपके सामने रखते हैं। क्या आरसीपी जेडीयू के भीतर नीतीश कुमार के खिलाफ बगावत की तैयारी कर रहे थे? क्या जेडीयू के कुछ विधायकों को अपने पाले में लाने की कोशिश आरसीपी की जानिब से हो रही थी? क्या बतौर केंद्रीय मंत्री बढ़िया प्रदर्शन के लिए भाजपा से तारीफ पाना उनके खिलाफ चला गया? इनके कुछ जवाब तो आरसीपी के बयानों से मिलता है। जब वो कहते हैं कि नीतीश कुमार सात जन्मों में भी प्रधानमंत्री नहीं बन सकते। लेकिन ये बात आई कहां से? तो कुछ बातें जो पटना की सियासी फिजा में तैर रही हैं, उस पर गौर फरमाइए। खेल तो 22 अप्रैल से ही शुरू हो गया था जब नीतीश कुमार पैदल ही राबड़ी देवी के घर इफ्तार पार्टी में पहुंच गए। उसके बाद एक हफ्ते में तीन बार तेजस्वी यादव और नीतीश कुमार की बातचीत हुई। जीतनराम मांझी के घर वाले इफ्तार में तो तेजस्वी ने कहा – हम सीनियर नेताओं का सम्मान करते हैं। इसलिए मुझे भी सम्मान मिल रहा है। ये वही तेजस्वी यादव हैं जो नीतीश को पलटू चाचा के अलावा किसी और नाम से पुकारते नहीं थे। क्या आपने 22 अप्रैल के बाद नीतीश कुमार के लिए ऐसी भाषा का प्रयोग करते तेजस्वी को सुना है? यह सारे सवाल बिहार भाजपा के छोटे-बड़े नेताओं से लेकर कार्यकर्ताओं के जेहन में है।

दायां हाथ दागी तो बायां?

सृजन घोटाला हो या मामूली विभागीय लापरवाही, नीतीश कुमार पर सीधे वार करने वाली आरजेडी नरम है। यहां तक कि आरसीपी सिंह पर भ्रष्टाचार के आरोप जब नीतीश कुमार की पार्टी ने ही लगा दिए तो आरजेडी ने इसका समर्थन किया। नालंदा में हिलसा से पूर्व विधायक और आरजेडी प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव ने कहा कि आरसीपी टैक्स का मुद्दा तो तेजस्वी यादव खुद सदन में उठा चुके हैं। आज अगर जेडीयू ही इसे सामने ला रही है तो कार्रवाई होगी। जब मैंने पूछा कि वो नीतीश के दाएं हाथ थे तो क्या भ्रष्टाचार के छींटे उन पर नहीं पड़ेंगे। शक्ति यादव का कहना था कि ये जांच का विषय है। यही नहीं उन्होंने भाजपा कोटे से कुछ मंत्रियों के फैसले बदलने के लिए भी नीतीश की तारीफ की। जब कुरेदा कि क्या 27 जुलाई, 2017 की तरह अचानक कुछ हो भी सकता है तो उनका कहना था वैचारिक आधार पर अगर गैर-बीजेपी पार्टियां साथ आती हैं तो इसमें क्या दिक्कत है?

ajay-alok

इससे पहले आरसीपी के करीबी अजय आलोक को जेडीयू ने हटा दिया


उधर, भाजपा इसी थ्योरी को मान कर चल रही है। इसके मुताबिक सावन बीत जाए वही बहुत हैं। आशंका है कि नीतीश कुमार जल्द ही कोई बड़ा फैसला कर सकते हैं। पार्टी के एक नेता ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि ऑपरेशन आरसीपी इसी का हिस्सा है। वो कहते हैं, ‘नीतीश कुमार को लगता था कि आरसीपी भाजपा के जासूस हैं। ज्यादा ही नजदीक जा रहे हैं। और हो सकता है कुछ विधायकों को भी नजदीक ले जाने की कोशिश कर रहे हों। इसी डर से नीतीश कुमार ने 25 साल पुराने अपने खासमखास को उठाकर फेंक दिया।’ वहीं एक वरिष्ठ नेता ने बताया, ‘हम लोग एक अनप्रेडिक्टबल (अप्रत्याशित) बात कर रहे हैं और जिसके बारे में बात कर रहे हैं वो भी अनप्रेडिक्टेबल है। और ये बात सही है कि हाल ही में ललन सिंह ने कुछ विधायकों को बुलाकर मन टटोला था कि उधर जाएं तो उन्हें कोई दिक्कत तो नहीं। ये सब अभी ललन सिंह कर रहे हैं।’

दोनों पार्टनर एक-दूसरे को झेल रहे

ये तय है कि भाजपा का स्टेट यूनिट नीतीश को एक-एक दिन झेल रहा है। भाजपा कोटे से एक मंत्री ने ही ये बात कही। भाजपा को लगता है 43 सीटों वाली पार्टी के नेता को सीएम बनाकर पार्टी अपना नुकसान कर रही है। वहीं नीतीश की पार्टी के नेता भी यही सोचते हैं। कुछ दिनों पहले नीतीश के एक करीबी नेता ने बताया था, आप कल्पना कीजिए नीतीश कुमार कैसे उन दो डिप्टी सीएम के साथ काम करते होंगे। उनकी योग्यता देखिए। फिर परिणति क्या होगी? कुछ जानकार बताते हैं कि लालू जब तक पटना में सक्रिय थे, तब तक नीतीश के लिए ज्यादा आसान था पर तेजस्वी यादव अति आत्मविश्वासी हैं। अपने भविष्य को लेकर। वहीं भाजपा खेमा मानकर चल रहा है कि स्क्रिप्ट लिखी जा चुकी है।

हम लोग एक अनप्रेडिक्टबल (अप्रत्याशित) बात कर रहे हैं और जिसके बारे में बात कर रहे हैं वो भी अनप्रेडिक्टेबल है। और ये बात सही है कि हाल ही में ललन सिंह ने कुछ विधायकों को बुलाकर मन टटोला था कि उधर जाएं तो उन्हें कोई दिक्कत तो नहीं। ये सब अभी ललन सिंह कर रहे हैं

एक वरिष्ठ भाजपा नेता


अगर स्क्रिप्ट लिखी जा चुकी है तो कुछ दिनों पहले ही अमित शाह ने खुद पटना में क्यों कहा कि 2024 और 2025 के चुनावों में भाजपा नीतीश के साथ ही चुनाव लड़ेगी। तो इसका जवाब भी भाजपा के स्थानीय नेताओं के पास है। एक पार्टी प्रवक्ता कहते हैं – भाजपा गठबंधन धर्म का मजबूती से पालन करती है। हम नहीं चाहते कि नीतीश कुमार फैसला खुद का करें और उसका कारण हमें बताएं। राज्य यूनिट के कई नेता इसलिए भी परेशान हैं कि उनको लगता है केंद्रीय नेतृत्व इस बात को पूरी तरह नहीं समझ पा रहा कि बिहार में क्या चल रहा है। कुल मिलाकर जबर्दस्त सस्पेंस है। बिहार की सियासत इसी के लिए जानी जाती है। आपको लगातार गेस करना पड़ता है कि क्या होने वाला है। तो हम भी इंतज़ार करते हैं।

Navbharat Times Recordsdata App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए NBT फेसबुकपेज लाइक करें

Web Title : Hindi Recordsdata from Navbharat Times, TIL Community

Read More

Continue Reading

Politics

BJP: Opposition shouldn’t politicise corruption

NEW DELHI: Citing the uncovering of cash and assets acquired by some opposition politicians, BJP on Tuesday refuted the charge of vendetta politics against its government and said that being in the opposition does not give the allegedly corrupt immunity from investigation. With opposition parties persisting with their charge of witch-hunt and misuse of investigative…

Published

on

BJP: Opposition shouldn’t politicise corruption

NEW DELHI: Citing the uncovering of cash and resources obtained by some opposition politicians, BJP on Tuesday refuted the charge of vendetta politics against its authorities and said that being within the opposition does no longer give the allegedly nasty immunity from investigation.

With opposition occasions persisting with their charge of witch-hunt and misuse of investigative companies against political opponents, BJP spokespersons Sambit Patra and Amit Malviya said “mountain of cash” were recovered from the opposition leaders, and these who were arrested possess did now not salvage bail.

Responding to the charge of companies being selective, the two leaders said opposition occasions were free to technique the court docket against alleged bias. “Calcutta HC ordered probe within the gigantic SSC recruitment scam, equally

National Herald

has been via a judicial review and so possess corruption cases against AAP and NCP leaders,” Malviya tweeted.

Patra spoke about the corruption allegation against

Shiv Sena MP Sanjay Raut

, the seizure of “mountain of cash” suspected to belong to TMC leader

Partha Chatterjee

and money laundering allegation against AAP’s Satyendar Kumar Jain to hit out on the opposition over its charge of political vendetta.

These leaders were arrested by the ED. “Would perchance aloof they be allowed to head scot free simply on chronicle of they are gigantic politicians? The charges are essentially based entirely on information and proof and no longer rhetoric. The opposition must no longer politicise corruption,” Patra said.

Talking to newshounds, he claimed the governments bustle by the BJP might per chance perchance per chance well additionally no longer ever override constitutional values and no longer interfere within the work of investigation companies. “However we possess zero tolerance for corruption. Whosoever defrauded of us’s money might per chance perchance per chance well additionally no longer be let off,” he said.

Read Extra

Continue Reading

Trending

Copyright © 2021 24x7 Bulletin.