Connect with us

Politics

BJP neat sweeps Tripura civic polls, PM Modi says of us take politics of precise governance

Tripura’s ruling BJP pulverised Mamata Banerjee’s TMC and the Left on Sunday, capturing with surprising ease the Agartala Municipal Corporation and 13 other civic bodies where it now has 329 of the 334 seats. PM Narendra Modi thanked the people of Tripura for their “unequivocal support” to the Bharatiya Janata Party in the civic polls,…

Published

on

BJP neat sweeps Tripura civic polls, PM Modi says of us take politics of precise governance

Tripura’s ruling BJP pulverised Mamata Banerjee’s TMC and the Left on Sunday, taking pictures with gorgeous ease the Agartala Municipal Company and 13 diversified civic our bodies the attach it now has 329 of the 334 seats. PM Narendra Modi thanked the of us of Tripura for their “unequivocal give a boost to” to the Bharatiya Janata Event within the civic polls, after the occasion over every other time retained its energy within the an fundamental polls.

Learn More

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Politics

नए जिलों का मास्टरस्ट्रोक खेल दिल्ली क्यों गए गहलोत? पायलट से मतभेद पर दिया दो टूक जवाब

Edited by रुचिर शुक्ला | आईएएनएस | Updated: 19 Mar 2023, 9:18 amRajasthan Politics : राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने बड़ा दांव चलते हुए 19 नए जिलों का ऐलान किया। मुख्यमंत्री के इस दांव को चुनावी साल में मास्टर स्ट्रोक के तौर पर देखा जा रहा। इसी बीच सीएम गहलोत दिल्ली पहुंचे और कांग्रेस…

Published

on

नए जिलों का मास्टरस्ट्रोक खेल दिल्ली क्यों गए गहलोत? पायलट से मतभेद पर दिया दो टूक जवाब

Edited by रुचिर शुक्ला | आईएएनएस | Updated: 19 Mar 2023, 9: 18 am

Rajasthan Politics : राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने बड़ा दांव चलते हुए 19 नए जिलों का ऐलान किया। मुख्यमंत्री के इस दांव को चुनावी साल में मास्टर स्ट्रोक के तौर पर देखा जा रहा। इसी बीच सीएम गहलोत दिल्ली पहुंचे और कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष खरगे से मिले। उनके अचानक दिल्ली दौरे से राजनीतिक पारा चढ़ा।

जयपुर: राजस्थान में चुनावी साल (Rajasthan Assembly Election 2023) होने की वजह से सियासी घमासान काफी तेज है। शायद यही वजह है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) शनिवार को दिल्ली पहुंचे। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे से मुलाकात की। राजस्थान में नए जिलों की घोषणा के बाद गहलोत की खरगे से इस मुलाकात को काफी अहम माना जा रहा। उम्मीद लगाई जा रही है सीएम गहलोत राहुल गांधी और पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल से भी मिल सकते हैं। वहीं खरगे से मिलने के बाद सीएम गहलोत ने राज्य के सियासी हालात और सचिन पायलट (Sachin Pilot) संग मतभेद की खबरों पर खुलकर बात की।

पायलट से कोई मतभेद नहीं, बोले सीएम गहलोत

अशोक गहलोत ने कहा कि सचिन पायलट के साथ कोई मतभेद नहीं है… हमारी पार्टी में ऐसे मतभेद होते रहते हैं। हर राज्य में सभी पार्टियों के साथ ऐसा होता है। लेकिन हम एक साथ चुनाव लड़ेंगे, जीतेंगे और सरकार बनाएंगे। उन्होंने कहा कि हम साथ मिलकर चुनाव लड़ते हैं, साथ मिलकर जीतते हैं और फिर हम हाईकमान के फैसलों को मानते हैं। यह परंपरा रही है और ये जारी रहेगा।

Sachin Pilot vs Ashok Gehlot: गहलोत होंगे कांग्रेस के CM फेस! केजरीवाल या मोदी….कौन सा रास्ता चुनेंगे सचिन पायलट?

राहुल गांधी को लेकर क्या कहा

अशोक गहलोत ने राहुल गांधी के बयान पर भी टिप्पणी की है। उन्होंने पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने ऐसा क्या कहा जिसके लिए वो माफी मांगे। राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा के दौरान तमाम मुद्दे उठाए हैं। राहुल गांधी दबंग नेता हैं। वह ही इनका मुकाबला कर सकते हैं। देश में आज महंगाई का मुद्दा है। पीएम मोदी को उस पर मंथन करना चाहिए। सीएम ने कहा कि आज अमीरों और गरीबों के बीच खाई बढ़ रही है। यह अंसतोष पार कर गया तो गृह युद्ध भी हो सकता है। आज देश की मुख्य समस्या महंगाई और बेरोजगारी है। व्यापारी और उद्योगपति समझ गए है।

राजस्थान में Ashok Gehlot ही होंगे कांग्रेस का चेहरा, Sachin Pilot के साथ अदावत का गेम ओवर!

गहलोत के नए जिलों के ऐलान से बैकफुट पर बीजेपी!

राजस्थान में विधानसभा चुनाव इस साल के अंत में ही होने हैं। मुख्यमंत्री गहलोत ने राज्य में 19 नए जिलों की घोषणा की है जिसे बड़ा सियासी दांव के तौर पर देखा जा रहा है। अब बीजेपी बैकफुट पर नजर आती दिखाई दे रही है। गहलोत का दावा है कि कांग्रेस की सरकार रिपीट होगी। हालांकि, राजस्थान विधानसभा चुनाव से पहले गहलोत की मुलाकात के सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव 2023 सीएम गहलोत के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा। ऐसे में सचिन पायलट की भूमिका क्या होगी, यह फिलहाल देखना होगा।

Rajasthan में 19 नए जिलों की घोषणा, Ashok Gehlot के इस दाव से जानिए क्या होगा बदलाव


Navbharat Times News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए NBT फेसबुकपेज लाइक करें

Rep Jaipur News, Breaking info headlines about Jaipur crime, Jaipur politics and live updates on local Jaipur info. Browse Navbharat Times to get all latest info in Hindi.

Be taught More

Continue Reading

Politics

राम से ज्यादा कर्मकांडी था रावण, जीतनराम मांझी का ये कैसा बयान

Curated by केशव सुमन सिंह | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 17 Mar 2023, 3:00 pmBihar politics: बिहार के पूर्व मख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। इस बार जीतन राम मांझी ने राम से श्रेष्ठ रावण को बताया है। इससे पहले भी जीतन राम मांझी हिन्दू धर्म और सामाजिक व्यवस्था को…

Published

on

राम से ज्यादा कर्मकांडी था रावण, जीतनराम मांझी का ये कैसा बयान

Curated by केशव सुमन सिंह | नवभारतटाइम्स.कॉम | Up to this point: 17 Mar 2023, 3: 00 pm

Bihar politics: बिहार के पूर्व मख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। इस बार जीतन राम मांझी ने राम से श्रेष्ठ रावण को बताया है। इससे पहले भी जीतन राम मांझी हिन्दू धर्म और सामाजिक व्यवस्था को लेकर कई बार विवादित बयान दे चुके हैं।

jitan Ram Majhi

हाइलाइट्स

  • रावण को बताया राम से ज्यादा महान
  • मनुवादी व्यवस्था में सिर्फ राम का गुणगान
  • रामचरितमानस अच्छी किताब, लेकिन काल्पनिक
  • ग्रंथ में बहुत कचरा, साफ करने की जरूरत
पटनाः बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने एक बार फिर से विवादित बयान दिया है। उन्होंने राम से ज्यादा रावण के चरित्र को महान बताया। इससे पहले भी जीतन राम मांझी लगातार हिंदू आस्था को आहत करने का प्रयास कर रहे हैं। राम चरित मानस और हनुमान पर लगातार विवादित बयान देने के बाद शुक्रवार को उन्होंने फिर से बड़ी बात कह दी। विधानसभा में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने एक बार फिर से रामचरितमानस को काल्पनिक बताकर हिंदू बहुसंख्यक समाज को आहत करने का प्रयास किया। उन्होंने राम और रावण दोनों को काल्पनिक बताया हैं। लेकिन इस काल्पनिक ग्रंथ में भी राम से रावण को श्रेष्ठ बताया है।

जीतन राम मांझी ने कहा कि राम से ज्यादा कर्मकांडी रावण था। उन्होंने कहा कि रामचरितमानस बहुत अच्छी किताब है। इसमें बहुत सारी अच्छी बातें लिखी हैं। लेकिन मनुवादी व्यवस्था वाले लोगों ने इसमें राम का गुणगान की। उन्होंने अंबेडकर और लोहिया की बातों को आधार बनाते हुए कहा कि इस ग्रंथ में बहुत सारा कचरा है,जिसे साफ करने की जरूरत है।

दलित हैं इसलिए दबाया जा रहा : जीतन राम मांझी


बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा कि राहुल सांकृत्यायन ने भी कहा कि राम काल्पनिक हैं। लोकमान्य तिलक ने भी कहा कि राम काल्पनिक हैं। डिस्कवरी ऑफ इंडिया ने भी रामपुर काल्पनिक बताया। जीतन राम मांझी ने दलित पिछड़ा और अति पिछड़ा कार्ड खेलते हुए कहा कि ये लोग ब्राह्मण थे। पूर्व मुख्यमंत्री ने अपनी बात कहते हुए आगे कहा कि उनकी बातों को इसलिए तूल दिया जा रहा है क्योंकि वे पिछड़े समाज से आते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि दलित होने की वजह से ही उनकी बातों को दबाया जा रहा है। जीतन राम मांझी ने अपनी बात कहते हुए कहा कि रामचरित मानस को बहुत सारे लोगों ने काल्पनिक बताया है।

Navbharat Cases Files App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए NBT फेसबुकपेज लाइक करें

Bag Patna Files, Breaking facts headlines about Patna crime, Patna politics and are living updates on local Patna facts. Browse Navbharat Cases to bag all most up-to-date facts in Hindi.

Learn More

Continue Reading

Politics

चुनावी साल में बागेश्वर धाम के साथ राजस्थान बीजेपी चीफ सतीश पूनियां का फोटो हुआ वायरल

Edited by खुशेंद्र तिवारी | Navbharat Times | Updated: 9 Mar 2023, 11:49 pmRajasthan Politics : राजस्थान बीजेपी के अध्यक्ष सतीश पूनियां और बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई है। इस फोटो ने राजस्थान की राजनीति के अटकलों के बाजार को गर्म कर दिया है।जयपुर/ चूरू…

Published

on

चुनावी साल में बागेश्वर धाम के साथ राजस्थान बीजेपी चीफ सतीश पूनियां का फोटो हुआ वायरल

Edited by खुशेंद्र तिवारी | Navbharat Cases | Up up to now: 9 Mar 2023, 11: 49 pm

Rajasthan Politics : राजस्थान बीजेपी के अध्यक्ष सतीश पूनियां और बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई है। इस फोटो ने राजस्थान की राजनीति के अटकलों के बाजार को गर्म कर दिया है।

Bageshwar Dham and satish poonia
जयपुर/ चूरू : राजस्थान में इसी साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। लिहाजा सियासी चर्चाएं जोरों पर हैं। चुनावी साल को देखते हुए अब हर नेता जोर आजमाइश में लग गया हैं। बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही खेमों में सीएम पद की दावेदारी पेश करने का सिलसिला भी तेज हो गया है। राजस्थान में बन रहे सियासी सीन के बीच एक तस्वीर भी वायरल हो रही है, जो सोशल मीडिया पर लोगों का ध्यान खींच रही है। यह तस्वीर राजस्थान बीजेपी के अध्यक्ष सतीश पूनियांं और संगठन महामंत्री चंद्रशेखर की है, जो बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के पास बैठे हैं। इस दौरान बागेश्वर बाबा के हाथ में एक पर्चा भी है।

क्या सीएम बनना चाहते हैं पूनियांं ?

राजस्थान बीजेपी के अध्यक्ष सतीश पूनियां और वसुंधरा राजे के बीच चल रही सियासी टसल को लेकर कई बार चर्चा होती है। यह बात भी सामने आती रही है कि वसुंधरा राजे गुट को किनारे लगाकर पूनियांं आगे सीएम पद के लिए अपनी दावेदारी पेश कर सकते हैं। बागेश्वर धाम के महंत पंडित धीरेंद्र शास्त्री के साथ पूनियां की सामने आई तस्वीर को लेकर भी यह अटकल लगाई जा रही है कि वो उनके पास उनका आशीर्वाद लेने ही पहुंचे थे। इस दौरान पूनियां ने अपना ‘पर्चा’ भी बनवाया।

चुनावी साल में राजे ने Gehlot Vs Pilot पर कसा तंज, जानिए क्यों कांग्रेस की आपसी लड़ाई पर बोला हमला

वसुंधरा राजे के जन्मदिन पर हुए शक्ति प्रदर्शन ने दी गुटबाजी को हवा

4 मार्च को राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने चुरू के सालासर धाम में अपना जन्मदिन मनाया गया था। इसी दिन राजस्थान बीजेपी संगठन ने सतीश पूनियां के नेतृत्व में पेपर लीक मामले में गहलोत सरकार को घेरा था। राजस्थान की राजनीति में बने इस संयोग को दोनों नेताओं के शक्ति प्रदर्शन के तौर पर देखा गया। राजनीति के जानकारों की ओर से इस दौरान यह भी कहा गया कि वो चुनावी साल में अब दोनों खेमे की गुटबाजी खुलकर सामने आ गई।

जानिए कब की यह फोटो

बताया जा रहा है कि जनवरी में पंडित धीरेंद्र शास्त्री के गुरू स्वामी रामभद्राचार्य महाराज का सालासर बालाजी मंदिर में जन्मदिन मनाया गया था। इस दौरान साधु- संतों के अलावा राजस्थान की कई हस्तियां भी पहुंची थी। इसी दौरान सतीश पूनियांं और चंद्रशेखर भी यहां पहुंचे थे। यह भी कहा जा रहा है कि इस दौरान सर्दी का मौसम था, लिहाजा सभी ने गर्म कपड़े पहने हुए थे।

बागेश्वर धाम सरकार का VIDEO वायरल, भक्तों को दे रहे हैं फ्लाइंग किस

Navbharat Cases Data App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए NBT फेसबुकपेज लाइक करें

Read More

Continue Reading

Trending

Copyright © 2021 24x7 Bulletin.